अफसाने मोहब्बत

अफसाने मोहब्बत

अफसाने मोहब्बत

अफसाने मोहब्बत, बेअमल हो रहे है |
मजहबी दंगे यहाँ, आजकल हो रहे है |

मांग धुलने की अब, कोई नहीं है निशाँ
गोया धन्धे में, अदल-ओ-बदल हो रहे है।

किसकी थी आरज़ू, ये फिक़्र उसका नही,
हसरतें कैसी भी हों, मुक्कमल हो रहे है।

कल तक तो थी, उनकी यहीं झोपड़ी,
किया ऐसा क्या, जो वो महल हो रहे है।

दो पल भी भरोसा, न होता किसी का,
मगर खड़े उनको, यहाँ अज़ल हो रहे है।

अच्छी बातें न दिखती, है नित होते हुए,
उनकी तो बस कहानी, ग़ज़ल हो रहे है।

बदल गये है जमाने, देख ले ऐ “शजर”,
ऐन-ए-वस्ल में, अब ओझल हो रहे है।

afsaane mohabbat beamal ho rahe hai
majahabi dange yahan aajkal ho rahe hai

maang dhulane ki ab koi nahi hai nishaan
goya dhandhe me adal-o-badal ho rahe hai

kiski thi aarzoo, ye fikr uska nahi
hasarate kaisi bhi ho, mukammal ho rahe hai

kal tak to thi unki yahi jhopadi
kiya eisa kya, jo wo mahal ho rahe hai

do pal bhi bharosha, n hota kisi ka
magar khade unko, yahan ajal ho rahe hai

achchhi baaten n dikhti hai nit hote hue
unki to bas kahani, ghazal ho rahe hai

badal gaye hai zamane dekh le ye "shajar"
en-e-wasl me, ab ojhal ho rahe hai

0 comment(s)

Leave a Comment