ये चाँद कैसा है

ये चाँद कैसा है

ये चाँद कैसा है..!

ये चाँद कैसा है ?
कोई पहाड़ कहता है,
कोई सलाम करता है ।

किसी के ख्वाब जैसा है
कोई माहताब कहता है,
कोई किताब लिखता है ।



किसी के रिश्तों मे बुनता है
कोई मामा समझता है,
कोई मेरा चाँद कहता है ।

किसी के एहसास में रहता है
कोई महबूब में रखता है,
कोई सपनों में सजाता है ।

किसी के आवारगी में है
कोई आवाज देता है,
कोई युहीं बात करता है ।

किसी के साथ यूँ भी रहता है
कोई उसे नींद बताता है,
कोई उससे ही जागता है ।

किसी के त्योहार में बसता है
कोई उसे ईद में दिखता है,
कोई उसे चौथ मनाता है ।

ye chand kaisa hai
koi pahaad kahta hai
koi salam karta hai

kisi ke khwaab jaisa hai
koi mahtaab kahta hai
koi kitaab likhta hai

kisi ke rishton me bunta hai
koi mama samajhta hai
koi mera chand kahta hai

kisi ke ehsaas me rahta hai
koi mahboob me rakhta hai
koi sapno me sajata hai

kisi ke awaragi me hai
koi awaj deta hai
koi yu hi baat karta hai

kisi ke saath yun bhi rahta hai
koi use neend samajhta hai
koi usse hi jagta hai

kisi ke tyohar me basata hai
koi use eid me dikhta hai
koi use chauth manata hai

0 comment(s)

Leave a Comment