रैना बीती जाए, नैना भींगी जाए

रैना बीती जाए, नैना भींगी जाए

रैना बीती जाए

रैना बीती जाए
नैना भींगी जाए
कोई संदेशा मोरा सांवरो को लाए

शाम से रात हुई
कोई न आहट आई
अब तो चराग़ की लौ भी लड़खड़ाए। रैना ..

नैनों में यादो की बदरा बरसे
उनके दरस को अखियाँ तरसे
कोई एहसान करे जाके उनको बुलाए। रैना ...

मुश्किल पड़ी है किसको बताऊँ
कौन सुनेगा किसे समझाऊँ
याद जब आए तो मन बहकाए । रैना....



raina beeti jaaye
naina bheegi jaaye
koi sandesha mora sanwaro ko laaye. raina beeti jaaye...

shaam se raat huee
koi n aahat aai
ab to charag ki lau bhi larkharaye. raina beeti jaaye...

naino me yaado ki badara barase
unke daras ko ankhiyan tarase
koi ehsaan kare jake unko bulaaye. raina beeti jaaye...

mushqil padi hai kisko bataau
kaun sunega kise samajhaau
yaad jab aaye to man bahakaaye. raina beeti jaaye...

0 comment(s)

Leave a Comment