My article published in Dainik Jagran Newspaper

My article published in Dainik Jagran Newspaper

My article published in Dainik Jagran Newspaper

कई साल पहले की बात है जब इस देश के मशहूर अखबार दैनिक जागरण ने नए लेखको मे अपने लेखन कार्य को प्रोत्साहित करने के लिए एक ब्लॉग साइट की शुरुआत की थी जिसका नाम जागरणजंक्शन॰कॉम था। इस साईट से सभी नए और पुराने लेखको को अपने लेखन कला पर धार तेज करने का मौका मिला। दैनिक जागरण ने सभी लेखको के लेखन को निखारने व लेखन मे प्रतिस्पर्धा बढ़ाने के लिए कई प्रतियोगिताओं का आयोजन भी किया था। सभी लेखको और ब्लॉगरों ने इन प्रतियोगिताओं मे बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था और पुरस्कार भी जीता था । एक खास पुरस्कार जो दैनिक जागरण लेखकों और ब्लॉगरों को प्रोत्साहित करने के लिए प्रतिदिन देती थी वो ये था कि दैनिक जागरण अखबार के संपादकीय पृष्ठ पर सम-सामयिक अथवा उत्तम दृष्टि से उचित होने पर दो ब्लॉग के कुछ अंश को प्रकाशित करती थी साथ ही साथ उस ब्लॉग का लिंक भी देती थी जिससे कोई भी ऑनलाइन जाकर पूरा ब्लॉग पढ़ सके।

आज मेरे इस चर्चा का कारण ये बताना नहीं कि मैं भी उन ब्लोगरों में से एक था जो अपनी लेखन की कला पर धार लगा रहा था। कारण ये है कि आज अपने पुराने कागजातों को उलटने-पलटने मे अखबार की उस कटिंग को देखकर अपने पुराने दिन याद आ गये और उन यादों को सँजोने हेतु मैंने सोचा कि इसे अपनी बेवसाईट पर डाल दूँ जिससे जब चाहे पुरानी यादे ताजा की जा सके। हालाकि मैं कोई बड़ा लेखक नही हूँ, लेकिन लेखन कार्य मे जो मेरे रुचि रही है उसकी वजह से कभी-कभी कुछ अच्छी कविताए व समसामयिक विषयों पर कुछ अच्छे लेख लिखा करता रहा हूँ | परिणामस्वरूप दैनिक जागरण ने मेरे कई लेख को प्रकाशित किया था और हजारो लेखकों मे टॉप 20 लेखकों मे मुझे जगह दिया था। इसके लिए दैनिक जागरण टीम को तहे दिल से धन्यवाद ।

पता नही क्यों दैनिक जागरण ने वह ब्लॉग साईट किस वजह से बंद कर दी । और लगभग सभी लेख को दैनिक जागरण ने अपने जागरण डॉट कॉम पर स्थानांतरित कर दिया है जिससे वह लिंक निष्क्रिय हो गया है जो अखबार मे प्रकाशित था। खैर हम अपनी यादे तो ताजा कर ही सकते है कुछ ब्लॉग नए लिंक पर मिल भी गए है तो मैं आपको नए लिंक के साथ अपनी वो सभी लेख यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ ।

84 कोसी परिक्रमा पर हो रही राजनीति पर जो मैंने लेख लिखे थे 25-8-2013 को, उसके एक या दो दिन बाद दैनिक जागरण ने अपने संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित किया था

इसे नए लिंक पर यहाँ पूरा पढ़ा जा सकता है Click Here

Post published in dainik jagarn

क्रिकेट के महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर ने जब क्रिकेट को अलविदा कहा था तब मेरा लेख 12-10-2013 को दैनिक जागरण ने अपने संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित किया था

इसे नए लिंक पर यहाँ पूरा पढ़ा जा सकता है Click Here

Post published in dainik jagarn

संजय दत्त को जब जेल से पेरोल पर छोड़ा गया था तब यह लेख 16-10-2013 को दैनिक जागरण ने अपने संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित किया था

इसे नए लिंक पर यहाँ पूरा पढ़ा जा सकता है Click Here

Post published in dainik jagarn

फेलिन जैसे तूफान के थमने के बाद जो राजनीति होने लगी थी तब मेरा लेख 18-10-2013 को दैनिक जागरण ने अपने संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित किया था

इसे नए लिंक पर यहाँ पूरा पढ़ा जा सकता है Click Here

Post published in dainik jagarn

जब शास्त्रीय संगीत के गुणी और मखमली आवाज के शहंशाह इस दुनिया को छोड़ गये थे तब यह लेख 29-10-2013 को दैनिक जागरण ने अपने संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित किया था

इसे नए लिंक पर यहाँ पूरा पढ़ा जा सकता है Click Here

Post published in dainik jagarn

जब भाजपा-जेडीयू गठबंधन टूट गया था तब यह लेख 01-11-2013 को दैनिक जागरण ने अपने संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित किया था

इसे नए लिंक पर यहाँ पूरा पढ़ा जा सकता है Click Here

Post published in dainik jagarn

जब पहली बार अरविंद केजरीवाल के दिल्ली विधान सभा चुनाव जीतकर मुख्यमंत्री बनने के लिए दांव-पेंच और राजनीति हो रहा था तब यह लेख 12-12-2013 को दैनिक जागरण ने अपने संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित किया था

इसे नए लिंक पर यहाँ पूरा पढ़ा जा सकता है Click Here

Post published in dainik jagarn

अन्ना हज़ारे के अनशन के बाद जब लोकपाल कानून लाया गया था तब यह लेख 20-12-2013 को दैनिक जागरण ने अपने संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित किया था

इसे नए लिंक पर यहाँ पूरा पढ़ा जा सकता है Click Here

Post published in dainik jagarn

जब 2014 मे मोदी ने लोकसभा मे ऐतिहासिक जीत दर्ज किया था तब यह लेख 17-05-2014 को दैनिक जागरण ने अपने संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित किया था

इसे नए लिंक पर यहाँ पूरा पढ़ा जा सकता है Click Here

Post published in dainik jagarn

एक कविता जो मानव द्वारा किए जा रहे कृत्यों से मानवता पर उठा रहे मेरे मन मे सवाल पर लिखा था वह भी दैनिक जागरण ने अपने संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित किया था लेकिन न तो इसका प्रकाशन दिन याद है और न ही इसका लिंक, दैनिक जागरण द्वारा संशोधित न किए जाने की वजह से मिल नहीं पाया है, यह कविता मेरे ही साईट पर उपलब्ध है

इसे इस लिंक पर यहाँ पूरा पढ़ा जा सकता है Click Here

Post published in dainik jagarn

उन दिनों और भी कई क्षेत्रीय मासिक व साप्ताहिक अखबारों में मेरे कई लेख प्रकाशित हुए थे । जैसे निर्झर टाइम्स, युवा सुघोष, सुप्रीम न्यूज ।

यह लेख उन यादों को ताजा करने और उसे सँजोने के लिए था। बस ... धन्यवाद

0 comment(s)

Leave a Comment